NCERT Solutions Class 6 विज्ञान Chapter-14 (जल)

NCERT Solutions Class 6 विज्ञान Chapter-14 (जल)

NCERT Solutions Class 6  विज्ञान 6 वीं कक्षा से Chapter-14 (जल) के उत्तर मिलेंगे। यह अध्याय आपको मूल बातें सीखने में मदद करेगा और आपको इस अध्याय से अपनी परीक्षा में कम से कम एक प्रश्न की उम्मीद करनी चाहिए। हमने NCERT बोर्ड की टेक्सटबुक्स हिंदी विज्ञान के सभी Questions के जवाब बड़ी ही आसान भाषा में दिए हैं जिनको समझना और याद करना Students के लिए बहुत आसान रहेगा जिस से आप अपनी परीक्षा में अच्छे नंबर से पास हो सके।
Solutions Class 6 विज्ञान Chapter-14 (जल)
एनसीईआरटी प्रश्न-उत्तर

Class 6 विज्ञान

पाठ-14 (जल)

अभ्यास के अन्तर्गत दिए गए प्रश्नोत्तर

पाठ-14 (जल)

प्रश्न 1.

आगे दिए गए रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए –

  1. जल को वाष्प में परिवर्तित करने के प्रक्रम को …………… कहते हैं।
  2. जलवाष्प को जल में परिवर्तित करने के प्रक्रम को ………….. कहते हैं।
  3. एक वर्ष या इससे अधिक समय तक वर्षा न होना उस क्षेत्र में ………….. लाता है।
  4. अत्यधिक वर्षा से ………….. आती है।

उत्तर-

  1. वाष्पऩ।
  2. संघनऩ।
  3. सूखा़।
  4. बाढ़।

प्रश्न 2.

निम्नलिखित वाक्यों में से प्रत्येक में बताइए कि क्या यह वाष्पन अथवा संघनन के कारण से है –

  1. ठण्डे जल से भरे गिलास की बाहरी सतह पर जल की बूंदों का दिखना।
  2. गीले कपड़ों पर इस्त्री करने पर भाप का ऊपर उठना।
  3. सर्दियों में प्रात:काल कोहरे का दिखना।
  4. गीले कपड़े से पोंछने के बाद श्यामपट्ट कुछ समय बाद सूख जाता है।
  5. गर्म छड़ के ऊपर जल छिड़कने से भाप का ऊपर उठना।

उत्तर-

  1. संघनऩ।
  2. वाष्पऩ।
  3. संघनऩ।
  4. वाष्पऩ।
  5. वाष्पन।

प्रश्न 3.

निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सत्य है?

  1. वायु में जलवाष्प केवल मानसून के समय में उपस्थित रहती हैं। ( )
  2. जल महासागरों, नदियों तथा झीलों से वाष्पित होकर वायु मे मिलता है, परन्तु भूमि से वाष्पित नहीं होता। ( )
  3. जल के जलवाष्प में परिवर्तन की प्रक्रिया वाष्पन कहलाती है। ( )
  4. जल का वाष्पन केवल सूर्य के प्रकाश में ही होता है। ( )
  5. वायु की ऊपरी परतों में जहाँ यह और अधिक ठण्डी होती है, जलवाष्प संघनित होकर छोटी-छोटी जल कणिकाएँ बनाती हैं। ( )

उत्तर-

  1. असत्य।
  2. असत्य।
  3. सत्य।
  4. असत्य।
  5. सत्य।

प्रश्न 4.

मान लीजिए कि आप अपनी स्कूल यूनीफार्म को वर्षा वाले दिन शीघ्र सुखाना चाहते हैं। क्या इसे किसी अँगीठी या हीटर के पास फैलाने पर इस कार्य में सहायता मिलेगी? यदि हाँ, तो कैसे?

उत्तर-

हाँ, यूनीफार्म को अँगीठी या हीटर के पास फैलाकर सुखाने में सहायता मिलेगी। अँगीठी या हीटर से निकलने वाली ऊष्मा से उसके आस-पास की वायु गर्म हो जाती है। गर्म वायु यूनीफार्म के जल को वाष्पित करने के लिए ऊष्मा प्रदान करती है। इससे वाष्पन की क्रिया होती है। इसके फलस्वरूप जल वाष्प में परिवर्तित होकर यूनीफार्म को सुखाने मे सहायता करता है।

प्रश्न 5.

एक जल की ठण्डी बोतल रेफ्रिजरेटर से निका. लिए और इसे मेज पर रखिए। कुछ समय पश्चात् आप इसके चारों ओर जल की छोटी-छोटी बूंदें देखेंगे। कारण बताओ।

उत्तर-

ठण्डी बोतल को मेज पर रखने से बोतल की बाहरी सतह, बोतल के आस-पास की बाहरी हवा को ठण्डा कर देती है। इसके फलस्वरूप जलवाष्प बोतल की सतह पर चारों ओर संघनित होकर जल बूंदों के रूप परिवर्तित हो जाती है।

प्रश्न 6.

चश्मों के लेंस साफ करने के लिए लोग उस पर फँक मारते हैं तो लेंस भींग जाते हैं। लेंस क्यों भीग जाते हैं? समझाइए।

उत्तर-

जब हम लेंस पर फूंक मारते हैं तो हमारे मुँह से कार्बन डाइऑक्साइड के साथ जल वाष्प भी निकलती है। वायु की उपस्थिति में ये जल वाष्प संघनित होकर लेंस को गीला कर देती है।

प्रश्न 7.

बादल कैसे बनते हैं?

उत्तर-

सूर्य की गर्मी के कारण समुद्र तालाबों, नदियों, झीलों एवं झरनों का पानी गर्म होता रहता है जिससे इन स्रोतों के पानी का लगातार वाष्पीकरण होता रहता है। इसके अतिरिक्त सभी पौधों से भी वाष्पोत्सर्जन क्रिया द्वारा पानी वाष्पित होता रहता है। पृथ्वी की सतह की वायु भी सूर्य की गर्मी से गर्म होती रहती है। जलवाष्प युक्त गर्म वायु हल्की होने के कारण ऊपर उठती रहती है। वायुमण्डल में ऊँचाई के साथ-साथ तापमान भी कम हो जाता है। ऊँचाई पर जलवाष्प ठण्डी होकर छोटी-छोटी बूंदों में द्रवित हो जाती है। ये बूंदें बादल बनाती हैं।

प्रश्न 8.

सूखा कब पड़ता है?

उत्तर-

काफी समय तक वर्षा न हो, तो सूखा पड़ता है। वाष्पन और वाष्पोत्सर्जन द्वारा मृदा से जल की क्षति होती रहती है। वर्षा न होने पर मृदा सूख जाती है। उस क्षेत्र के तालाबों और कुओं में जल का स्तर गिर जाता है और वे सूख भी जाते हैं। भौमजल की कमी हो जाती है। इससे सूखा पड़ जाता है।

एनसीईआरटी सोलूशन्स क्लास 6 विज्ञान पीडीएफ

Post a Comment